माननीय रविश कुमार जी आप एक बेटी को पढ़ाइये मैं एक बहन को पढ़ाता हूँ: निखिल दाधीच

1633
0
Share:
पिछले दिनों अपने एक ट्वीट से चर्चा में आये निखिल दाधीच एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार उन्होंने पत्रकार रविश कुमार को खुला पत्र लिखा है जो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है। उनके ट्वीट के नीचे लोगों की काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। अपने इस पत्र में उन्होंने पत्रकार रविश कुमार पर कई तीखे सवाल खड़े किए है । साथ ही उनके ट्वीट के कारण प्रधानमंत्री मोदी जी को बदनाम किये जाने की साजिश की कलई खोल कर रख दी है। साथ ही उन्होंने अपने पत्र के माध्यम से रविश कुमार से सकारात्मक अपील भी की है जिसे सभी लोग सराह रहे है। निखिल दाधीच ने रविश कुमार से आग्रह किया है कि सारे पूर्वाग्रह छोड़ कर नवभारत निर्माण में सहयोग करते है। उन्होंने लिखा है आप एक बेटी को पढ़ाइये मैं एक बहन को पढ़ाता हूँ।
साथ ही मोदी जी के स्वच्छता मिशन में भी जमीन स्तर पर साथ मिलकर काम करने की अपील की है। रविश कुमार इस पत्र को किस तरह से लेते है ये तो आने वाले समय में पता चलेगा लेकिन निखिल दाधीच के ट्वीट पर मिल रही प्रतिक्रियाओं से ऐसा लगता है कि उनके पत्र ने सोशल मीडिया के एक बड़े वर्ग का दिल जीत लिया है। हमारी टीम गुजरात ने निखिल दाधीच से संपर्क कर उनसे बात की । उनसे हुई बातचीत के अंश 
टीम गुजरात : आपके एक ट्वीट पर काफी बवाल हुआ इस पर आपकी क्या प्रतिक्रिया है?
निखिल: मेरे ट्वीट में विवाद जैसा कुछ नहीं था, मोदी जी मुझे फॉलो करते है इसलिए कुछ लोगों ने प्रधानमंत्री जी को बदनाम करने के लिए षडयंत्रपूर्वक उसे जानबूझकर विवाद में डाला गया।
टीम गुजरात: प्रधानमंत्री जी आपको फॉलो करते है आपको नहीं लगता कि सोशल मीडिया पर आपको संभल कर लिखना चाहिए?
निखिल : मेरी TL पर किसी को एक भी शब्द आपत्तिजनक या अभद्र भाषा वाला नहीं मिलेगा कोई भी जांच कर सकता है। मैं किसी के प्रति अभद्र भाषा का प्रयोग उचित नहीं समझता ना मैं ऐसी भाषा का प्रयोग करता हूँ।
टीम गुजरात: आपके ट्वीट के बाद प्रधानमंत्री जी को निशाना बनाया जा रहा है इस पर आप क्या कहेंगे?
निखिल: मेरे ट्वीट के बाद से जिस तरह से देश के प्रधानमंत्री जी को निशाना बनाया जा रहा है वो काफी वेदना देने वाला है। हम सोशल मीडिया पर सैंकड़ो लोगों को फॉलो करते है इसका मतलब ये नहीं की उनके द्वारा लिखी हुई किसी भी बात के लिए हम जिम्मेदार हो। प्रधानमंत्री जी एक साजिश के तहत निशाना बनाया जा रहा है। अगर मुझे फॉलो करने मात्र से मेरी किसी बात के लिए मोदी जी जिम्मेदार है तो देश के करोड़ो रूपये लेकर फरार होने वाले विजय माल्या के लिए रविश कुमार कैसे दोषी नहीं है आखिर वो विजय माल्या और ललित मोदी दोनों को फॉलो करते है। 
टीम गुजरात : कई लोग लगातार प्रधानमंत्री जी को निशाना बना रहे है आपको अन्फॉलो करने के लिए आप इस पर क्या सोचते है?
निखिल : मोदी जी इस देश के लिए लगातार कठिन परिश्रम कर रहे है। तीन साल की अथक कोशिशों के बाद भी समूचे विपक्ष और मीडिया के एक वर्ग को मोदी जी के खिलाफ कोई ठोस मुद्दा नहीं मिला है इसलिए वो अब षडयंत्र करके बेकार के मुद्दों में उन्हें उलझाने का भरसक प्रयास कर रहे है। देश के प्रधानमंत्री जी का फॉलो मिलना मेरे लिए गौरव की बात है लेकिन जिस तरह से कुछ लोग एक षड़यंत्र के मोदी जी को बदनाम करने में लगे है जबकि उनका इस पूरे मामले से कोई लेना देना नहीं है। मैं इससे बहुत दुःखी हूँ और अपने प्रधानमंत्री जी से माफी मांगता हूँ कि उन्हें मेरे बहाने अकारण ही निशाना बनाया जा रहा है।
टीम गुजरात : आपके मन पर इस पूरे प्रकरण ने कैसा प्रभाव डाला है?
निखिल : इस वाकये से मुझे काफी कुछ सीखने को मिला है। ये काफी नजदीक से पता चला कि मीडिया का एक बड़ा वर्ग किस तरह से चीजों को ट्विस्ट करके उन्हें अपने हिसाब से काम में लेता है। मीडिया के बड़े वर्ग ने इस पूरे मामले में एक बार भी मेरा पक्ष जनता के समक्ष नहीं रखा। हद तब हुई जब कई बड़े सबसे आगे और तेज रहने वाले न्यूज़ चैनलों ने इंटरव्यू लेने के बाद भी उसे टीवी पर नहीं दिखाया। इससे मुझे समझ आ गया की मीडिया कतई निष्पक्ष नहीं है। 
टीम गुजरात : इस पूरे प्रकरण के बाद क्या आपके मन में सोशल मीडिया से दूरी बनाने का ख्याल आया?
निखिल : नहीं ऐसा ख्याल मेरे में नहीं आया अपितु मुझे ये समझ आ गया की एक बड़ा वर्ग भाजपा और RW समर्थकों को लगातार निशाने पर ले रहा है ताकि हमारे अंदर भय पैदा हो जायें। इस घटना ने मेरे अंदर मोदी जी का समर्थन करने का संकल्प और मजबूत कर दिया। अब मैं पहले से ज्यादा दृढ़ता से प्रधानमंत्री जी का सहयोग करूँगा।
 
निचे दिए गए लिंक पर आप निखिल का रविश कुमार को लिखा ख़त पढ़ सकते है
https://nikhildadhich.wordpress.com/2017/10/03/%e0%a4%aa%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%b0-%e0%a4%b0%e0%a4%b5%e0%a4%bf%e0%a4%b6-%e0%a4%95%e0%a5%81%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b0-%e0%a4%9c%e0%a5%80-%e0%a4%95%e0%a5%8b-%e0%a4%ae/
 
Share:

Leave a reply